Menu

Introduction

जनाबुद्ध विकास की आकांक्षा के तहत नगर पालिका जोधपुर की स्थापना वर्ष 1884 में हुई ! कालांतर में जागार परिषद का दर्जा प्राप्त करने के पश्‍चात 17 दिसंबर 1992 से इसको नगर निगम का स्वरूप प्रदान किया गया हैं ! जोधपुर नगर निगम क्षेत्र को 65 वार्डों में विभक्त किया गया हैं ! यह नगर तीन विधान सभा क्षेत्रों में विभक्त है, जोधपुर नगर विधान सभा क्षेत्र, सुरसगर विधान सभा क्षेत्र, सरदरपुरा विधान सभा क्षेत्र में विभक्त हैं ! जोधपुर नगर में एक संसदीय क्षेत्र भी हैं ! 65 चुने हुआ वार्डों के पार्षद, छ: सहव्रत सदस्यों के साथ-साथ तीनों विधायक व जोधपुर के संसद भी नगर निगम बोर्ड के सदस्य हैं !

 

 जोधपुर नगर 232 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है ! नगर की जनसंख्या वर्ष 2001 की जनगणना के आधार पर 8.65 लाख थी जो 2006 में बाड़ कर 11 लाख जो चुकी हैं ! नगर निगम के प्रमुख कार्यों में सफाई व सीवर लाइन साधारण, आतिक्रमण विरोध, आवारा पशु समस्या निवारण, विकास कार्य सड़क , नाला , नली, सामुदायिक भवन निर्माण, सार्वजनिक शोचलयो का निर्माण, कच्ची बस्ती विकास, सार्वजनिक प्रकाश व्यवस्था, ग्रहकर वसूली, भवन निर्माण रेग्युलेशन, सौन्द्र्यकरण व पर्यावरण सुधार संबंधी विविध कार्य सम्मिलित हैं ! इसके अलावा केंद्र व राज्य सरकार द्वार प्रयोजित विभिन्न योजनाओ को लागू कर ग़रीबी रेखा से नीच जीवन यापन करने वालो लोगो को विभिन्न स्वरोजगार ऋण / अनुदान व प्रशिक्षण दे कर सहायता की जाती हैं ! नगर निगम इस क्षेत्र के संस्क्रती त्योहारो वा पर्वो के आयोजा मे भी पूर्ण सहायता करता हैं ! दशहरे का पर्व नियम द्वारा ही आयोजित किया जाता हैं ! अन्य पर्वो मेलों पर भी विभिन्न सस्थाओं को आर्थिक सहयोग दिया जाता हैं !